शक्तिशिवम

@drsakshipal

#goldenmoonspoetry

Pic credit@pintrest

“शिव” मतलब “चेतना”
शिव आदियोगी कहलाते हैं प्रथम योगेश्वर क्योंकि वो ना तो दुख से दुखी हैं और ना सुख से सुखी ।
वो तो स्थिर हैं हर स्थिति में, सम्पूर्ण है खुद में, परे हैं हर भौतिक सुख से, परे हैं हर मोह से।
शिव अंधकार हैं, कण कण में विराजमान हैं यही चेतना है।
ब्रह्माण्ड का हर कण जीवंत है, क्योंकि उसमे चेतना विद्यमान है।
चक्र चल रहा है मरण और जन्म का, समय का , सूर्य उदय से सूर्य अस्त का, चन्द्र रात्रि से कृष्ण पक्ष का, हर पूर्णिमा का , चक्र ही तो है , बंधन में बंध हुआ, आकार और समय में बांधा हुआ, पर चेतना उसका ना कोई बन्धन है, ना कोई चक्र, वो सदैव जाग्रत है हर रूप में।
शिव समय के परे :- –
शिव समय के परे हैं , या यूं कहे महाकाल है काल के भी काल हैं। समय के चक्र से परे हर कण में समाए हैं, कॉस्मिक एनर्जी और ब्रह्माण्ड के नियमों के परे हैं। अगर हम देखें तो सब कुछ ऊर्जा के रूप में ही चल रहा है। फिजिक्स के अनुसार ऊर्जा ना तो उत्पन्न की जा सकती है और ना ही नष्ट , केवल एक रूप से दूसरे रूप में स्थानांतरित होती है। उसी प्रकार शिव भी चेतना है, जो हम सब में मौजूद है।
आत्म शिव: :- – –
शिव आत्म हैं। मतलब बाहर के संसार से खुद के आंतरिक संसार में आना। आत्म का अनुभव होना।
आत्म से साक्षात्कार होना।सुख,दुख,ईर्ष्या, क्रोध, मोह, अहंकार से मुक्त होना और जानना की इवान का प्राय: क्या है।
ध्यान लगा कर खुद से खुद का
साक्षात्कार करना।
शक्ति और शिव :- – –
शिवरात्रि शिव और शक्ति के मिलन का दिन है। शिव ने अपनी यौगिक रूप के साथ शक्ति को ग्रहण किया। ये अर्थ है कि शिव जो की चतेना है स्वयं शक्ति के बिना अधूरे हैं।
ये रात सबसे अंधकारमय है, इस दिन सभी कॉस्मिक एनर्जी चरम पर होती हैं। हमें ज्ञात है कि अंधकार सबसे ताकवर है और पूरे ब्रह्मांड में विसरा हुआ है जब रोशनी की एक किरण पूरे ब्रह्मांड को उजागर करती है।
शक्ति वहीं हैं अंधकार की रोशनी ।शिव की अर्धांगिनी जिसके बिना शिव निरर्थक हैं।
शिव शक्ति मिलन ही पूर्ण मिलन है स्त्री का पुरुषत्व से और कुदरत का ब्रम्ह से।

Author:

be the part of the present

12 thoughts on “शक्तिशिवम

  1. Namaste! Namaskar!
    There is a lot to read here. Gyaan ki Bhandar!
    I have to stop here for quite some time to go through the posts. Full of knowledge. deep insight.
    Thank you for bringing and sharing the knowledge to the world through your blogs.
    Regards
    arun

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s