रूहों के इस मेले में……!!!!

रूहों के इस मेले में
तेरी रूह से मिल जाने दे
इस जन्म में नहीं मैं तेरा
हर जन्म तेरा हो जाने दे
जिस्मों से होकर जो
रगों में बहुं
ऐसे रूह से जुड़ जाने दे
मैंने सोचा ना हो
कभी ऐसा,
तुम मुझसे कहो
तुझे इतना प्यार मुझसे हो जाने दे।
कौन सुनता अपनी तड़प यहां
तेरी गलियों में रह जाने दे
जो दर्द है सीने में अब
उसे यूं ही दफन हो जाने दे
मैंने सोचा ना हो
कभी ऐसा,
तुम मुझसे कहो
तुझे इतना प्यार मुझसे हो जाने दे।
सांसों में पिरो जो तुमको लिया
लबों पे सजा जो तुमको लिया
क्या तुम भी यही कर पाओगे?
मैं सोचती हूं ये,
कभी तुम मुझसे कहो
तुझे इतना प्यार मुझसे हो जाने दे।
©Dr. Sakshi Pal

Author:

be the part of the present

42 thoughts on “रूहों के इस मेले में……!!!!

    1. प्रेमरस की कविताए बहुत अच्छा लिखती ….जारी रखिये …कभी लिखना छोड़िएगा मत …मै समझता हूं 2-3 पुस्तक तो पब्लिश कराएगी मेरी दोस्त😊❤✨

      Liked by 2 people

      1. इसका मतलब स्वयं नारायण तुम्हारे साथ…🙌 इसीलिए चैतन्य हो आप

        Liked by 2 people

      2. 🙏💫 कृष्ण सभी के साथ हैं,सभी के अंदर है।बस चेतना को जाग्रत करना ही है। मेरे हर समय में कृष्ण साथ है और हर प्रेम कविता उन्हीं को समर्पित।

        Liked by 2 people

  1. वाह! क्या बात!

    “रुहों के इस मेले में”
    मुझे शीर्षक बहुत ही पसंद आया , बेहद खूबसूरत रचना!👌👌👌

    Liked by 4 people

  2. बहुत बढ़िया प्रेम से ओतप्रोत रचना। एक और रचना आपकी कविता और फ़ोटो को देखकर।

    मैं क्या बोलूँ रब से निसदिन,पल-पल करते तेरी वंदन,
    देख नयन दिल,धड़कन मेरी,करती है क्या प्रेम निवेदन।
    जिस्म हमारा हक है तेरा,
    तूँ ही अब तो रब है मेरा,
    कदम रुके गंतव्य बने तुम,
    जीवन के अब लक्ष्य बने तुम,
    देख पवन क्या ऋतुएं कहती,
    मैं बोलूं क्या रूह गरजती,
    देख लरजते अधरें आतुर करने को तेरा अभिनन्दन,
    देख नयन दिल,धड़कन मेरी करती है क्या प्रेम निवेदन।
    बेशक मिल जाएंगे सबकुछ,
    जिस्मों का बाजार यहाँ,
    मौन खड़े तुम कुछ तो बोलो,
    मिलना मुश्किल प्यार यहाँ,
    बन खुशबू हम पवन बनेंगे,
    तूँ धरती हम गगन बनेंगे,
    चाह नही संगम क्षणभर का,चाहूँ जन्म जन्म का बंधन,
    देख नयन दिल,धड़कन मेरी करती है क्या प्रेम निवेदन,
    देख नयन दिल,धड़कन मेरी करती है क्या प्रेम निवेदन।
    !!!मधुसूदन!!!

    Liked by 5 people

  3. रूहों के इस मेले में

    तेरी रूह से मिल जाने दे

    ….
    …..
    ….

    Aapke words divine ho rahe h…
    Aam insan itni depth ko feel kr ke pagal ho sakta hai…

    Behad he khoobsurat khayal hai.

    ⭐⭐⭐⭐⭐

    Liked by 4 people

  4. Bahut khoobsurat !
    इस जन्म में नहीं मैं तेरा
    हर जन्म तेरा हो जाने दे।
    दिल को छू गयी । 👍

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s