चमक तेरे मेरे नयन की…..!!!!

चमक तेरे मेरे नयन की ,
कान्हा ये तो लौ है,
तुम्हारी मेरी प्रीत की,
हाथो में हाथ थामे,
सदियों के अनगिनत वादे,
हर श्रृंगार इस पावन बेला की,
चमक तेरे मेरे नयन की।
मैं जीवंत तुम में,
तुम प्राण मेरे,
स्पर्श मुक्त, मैं हर्ष युक्त,
अनगिनत, अलौकिक,
छवि तेरे मेरे प्रेम की,
कान्हा ये तो लौ है,
तुम्हारी मेरी प्रीत की,
चमक तेरे मेरे नयन की।
तन जो मिले तो विरह मिले,
तुम तो बसे रूह संग मेरे,
अब तो सब आंनद होय मिले,
ये प्रेम रस का पान प्रभु
राधा मधुसूदन शब्द मधुर
ये शक्ति हमारे अमर प्रेम की,
कान्हा ये तो लौ है,
तुम्हारी मेरी प्रीत की,
चमक तेरे मेरे नयन की।
©Dr. Sakshi Pal

Author:

be the part of the present

27 thoughts on “चमक तेरे मेरे नयन की…..!!!!

  1. Waah waah 😍😍

    Bahut badhiya dost

    मैंने कवि होकर जाना
    मै बीज हो सकता हूँ
    बादल और बरगद भी

    तुमने प्रेमी होकर जाना
    तुम, ईश्वर भी हो सकती हो !!

    Happy womens day… dost ✨
    keep learning keep moving
    Up n Up

    Liked by 2 people

    1. प्रेम किया,प्रेमी ही रहना,प्रेम सदा तुम बरसाना,
      आँखें हैं अतृप्त हमारी,तुम ईश्वर मत बन जाना।
      मैं क्या जानूँ कैसा रब,
      मैं तुझसे प्रीत निभाऊं,
      मुरली की ईक तान सुनूँ,
      सुधबुध अपना खो जाऊँ,
      ऐसे ही नित पास बुलाना,दूर कभी मत खो जाना,
      आँखें हैं अतृप्त हमारी,तुम ईश्वर मत बन जाना।

      Liked by 2 people

      1. स्वागत आपका। मेडिकल की छात्रा और कवयित्री हृदय, बेहतरीन सोच।🙏🙏

        Liked by 1 person

  2. मैं जीवंत तुम में,

    तुम प्राण मेरे,

    Golden words hai.

    Padhh ke laga mann hawa me udd rha h…

    🌟🌟🌟🌟🌟

    Liked by 1 person

    1. जब शब्द किसी के हृदय को छू जाए और अनुभूति करा दे उस भाव की तो सफल हुआ लिखना मेरा 🙏 आपका बहुत आभार । पढ़ते रहिए आगे भी ।🌺🙏😊

      Liked by 1 person

  3. I have been surfing on-line greater than three hours these days, yet I
    by no means discovered any interesting article
    like yours. It is beautiful worth enough for
    me. In my view, if all web owners and bloggers made excellent content material as
    you did, the web will likely be a lot more useful than ever before.
    Wow, this piece of writing is fastidious, my younger sister is
    analyzing these things, so I am going to inform her.
    Ahaa, its nice dialogue about this post at this place at
    this weblog, I have read all that, so at this time me also commenting here.
    http://alexa.com/

    Liked by 1 person

  4. अरे ओ कान्हा,
    सुन न
    हर पल एक राधा जन्म लेती है
    देख चमक तेरे नयन की
    अधरों पर पड़ते है अधर तेरी
    बस जाती है वो राधा तुझमें

    दिल से लिखते हो आप दिल तक छु जाती है🙏🙏🙏💐😊

    Liked by 3 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s