😴Nidraye😊

Nind😴 bhi kya gajab ki chij hai
Kuch sone ko taraste 😥hain to kuch rat bhar jagte hain😊
Or kuch so k bhi machalte hain😃😃

😴😴😴😴🤗🤗🤗🤗🌻🌻🌻🌻🌻🌻

अब इन कुछ पंक्तियों के कई अर्थ हैं ये उन लोगो लिए हैं जो रात रात भर जागते हैं कभी खुद के लिए तो कभी दूसरो के लिए और सोने को तरसते हैं, जो लोग चाह कर भी अपनी नींद पूरी नहीं कर सकते ,और कुछ लोग सोते तो हैं पर सुकून से सो नहीं पाते ।

कितनी हैरानी की बात है ना ! कि कोई भी सुकून से नहीं है। जिसे मिल रहा है वो भी ,और जिसे ना मिले वो भी । आगे आप समझ ही जाएंगे ।😊😊🙏
पर सुखी वही है जो सुकून से सोता हैं ।😴🤗😃🙏
है ना???????

🌺🌺Dr. Sakshi pal 🙏🏵️🏵️

Author:

be the part of the present

8 thoughts on “😴Nidraye😊

  1. “रात रात भर जागते हैं कभी खुद के लिए तो कभी दूसरो के लिए”😂…mtlv simply awesome Writer Ma’am 👏🏻👌🏻

    Liked by 1 person

    1. Matlav Kai hai iske Jo apne jivan see jod k dekhe
      Ek student apne future h liye apni nindo ko bhulta hai
      Ek pita apne baccho k liye rat rat bhr mehnat krta hai ….
      Bohot example Hain jab hm apni jindagi see relate kre to …..👍😊
      🏵️🙏

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s